खास खबरछत्तीसगढ़दुर्गरायपुर

एमसीबी के गांव पौड़ीडोल के लोगों ने किया शत प्रतिशत चुनाव का बहिष्कार.. पढ़े पूरी ख़बर

रायपुर – पौड़ी गांव के लोग जनप्रतिनिधियों और प्रशासन से इतने खफा हैं कि उन्होने लोकतंत्र के महापर्व में अपना वोट नहीं दिया

-गांव के लोग इतने नाराज हैं कि वो जनप्रतिनिधियों को देखना तक नहीं चाहते.

-यह गांव आज भी है मूलभूत सुविधाओं से कोसों दूर..!!

-प्रशासन की कोई ठोस कार्यवाही अब तक नही

– सरकारें आती हैं जाती हैं पर हमारा कोई विकास ही नही। ना बिजली, ना पानी, ना इलाज, ना सड़क ना शिक्षा हर तरह से है पिछड़े

-लोकतंत्र का महापर्व में भागीदारी जरूरी लेकिन जब कोई नेतृत्व या व्यवस्था सुनता ही नही तो हम क्या करें हमारे लिए तो जीना भी मुश्किल है: ग्रामीण

-लोकतंत्र के महापर्व में ग्रामीणों ने नहीं लिया हिस्सा –

एमसीबी / मनेंद्रगढ़ (खगेन्द्र यादव) । भरतपुर जिले में पौड़ी ग्राम के लोगों ने लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं किया. गांव वालों की शिकायत थी कि उनके गांव में विकास का काम सालों से रुका पड़ा है. गांव में जिन बुनियादी सुविधाओं की जरुरत है उसे कभी भी जन प्रतिनिधियों की ओर से पूरा नहीं किया गया. गांव वालों का आरोप है कि चुनाव के वक्त पार्टी के लोग आते हैं और वोट मांग कर चले जाते हैं. सभी दलों के नेता आश्वासन देते हैं पर काम कुछ नहीं होता. पौड़ी में विकास का काम नहीं होने से नाराज ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया.

मतदान का बहिष्कार:
गांव के लोगों की शिकायत है कि सड़क के नाम पर यहां सिर्फ कच्ची सड़क है. बारिश के दिनों में कीचड़ के चलते सड़क से गुजरना मुश्किल होता है. स्वास्थ्य से लेकर सड़क तक का हाल बेहाल है. बारिश के दिनों में अगर मरीज की तबीयत खराब हो जाए तो उसे अस्पताल में भर्ती कराना मुश्किल है. गांव वालों का कहना है कि वो लंबे वक्त से गांव में सुविधाएं देने की मांग कर रहे हैं लेकिन नेता बस झूठा आश्वासन देकर चले जाते हैं. जिला प्रशासन भी उनकी ओर ध्यान नहीं देता. गांव वालों ने वोट नहीं डालने के लिए 4 मई को ही अनुविभागीय दंडाधिकारी के नाम मतदान बहिष्कार की जानकारी दे दी थी.

हम सालों से विकास की राह गांव में देख रहे हैं..
विकास के नाम पर यहां टूटे बिजली के खंभे लगे हैं. गांव में पक्की सड़क खोजने से नहीं मिलेगी. बच्चों के लिए यहां एक भी स्कूल नहीं है. स्वास्थ्य सुविधा का क्या हाल है ये तो पूछिए ही मत. रात को किसी महिला को अगर प्रसव पीड़ा हो जाए तो उसे खटिया पर लादकर अस्पताल पहुंचाना पड़ता है”.  ग्रामीण, पौड़ी
क्या है ग्रामीणों की शिकायत:
गांव वालों की शिकायत है कि पीने का पानी, बिजली, सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य जो मूलभूत अधिकार है उससे वो सालों से वंचित हैं. गांव में बिजली नहीं होने के चलते ये लोग रात होते ही घरों में कैद हो जाते हैं. मरीज को रात के अंधरे में अगर ले जाना होता है तो उसे खटिया पर लादकर ले जाते हैं. बिजली नहीं होने से जंगली जानवरों का भी खतरा बना रहता है. बच्चों की पढ़ाई लिखाई भी नहीं पाती है क्योंकि गांव में एक भी स्कूल नहीं है. गांव वालों का कहना है कि अगर उनकी मूलभूत सुविधाओं को बहाल कर दिया जाए तो वो वोट देंगे. विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव तो अब पांच साल बाद होंगे. अब देखना ये होगा कि क्या इनकी मांगे पांच सालों के भीतर पूरी होती है या नहीं।

The Samachaar

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button